अन्य राज्यछत्तीसगढ़

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर सफेद ध्वज लगाने वाले आरोपित की हुई गिरफ्तारी

बलौदाबाजार

छत्‍तीसगढ़ के बलौदाबाजार कलेक्टर-एसपी कार्यालय परिसर स्थित ध्वजखंभ में सफेद ध्वजा लगाने वाले आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपित की पहचान कर उसकी गिरफ्तारी की गई है। आरोपित का नाम डिगेश्वर बांधे 21 साल निवासी कोरदा थाना लवन है। बलौदाबाजार हिंसा मामले में अब तक 138 आरोपितों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

10 जून को बलौदाबाजार में भयानक हिंसक घटना हुई, जिसमें उपद्रवियों ने कलेक्ट्रेट परिसर में रखी सभी गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया था। आगजनी में पूरी सरकारी बिल्डिंग जलकर खाक हो गई थी। इस दौरान उपद्रवियों ने बलौदाबाजार में कलेक्टर कार्यालय के सामने ध्वजारोहण पोल पर सफेद ध्वज लगा दिया था।

इस मामले में अलग-अलग नौ केस दर्ज कर आरोपितों की गिरफ्तारी की जा रही है। आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए 22 सदस्यों की पुलिस एसआइटी गठित की गई है। उक्त टीम द्वारा आरोपितों के संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है। वीडियो, सीसीटीवी फुटेज एवं अन्य तकनीकी विश्लेषण के आधार पर तलाश जारी है।

बलौदाबाजार हिंसा पर गृहमंत्री विजय शर्मा ने कही ये बड़ी बात
इधर, बलौदाबाजार कलेक्ट्रेट और एसपी कार्यालय को जलाए जाने के मामले में गृहमंत्री विजय शर्मा ने कहा है कि दुर्ग से कितने लोग गए थे, कौन-कौन गए थे, हमें इसकी भी जानकारी है। जिस तरीके से कलेक्ट्रेट व एसपी कार्यालय को जलाया गया है, इसमें ये लोग स्वयं शामिल है। अपने ही लोगों को खत्‍म करके राजनीति नहीं की जाती है। गृहमंत्री दुर्ग प्रवास पर थे।

कलेक्ट्रेट कार्यालय में समीक्षा बैठक लेने के बाद उन्होंने पत्रकारों से चर्चा की। बलौदाबाजार की घटना को लेकर कांग्रेसियों द्वारा जगह-जगह किए जा रहे प्रदर्शन और घटना में बाहरी तत्व शामिल होने के आरोप का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि आंदोलन उन्होंने भी किया है।

नौ दिन नौ रात तक कलेक्टर के दरवाजे पर बैठा रहा, लेकिन भीतर नहीं गए, क्योंकि उन्हें पता था कि इसके आगे जाना लोकतंत्र का अपमान है। हम लोगों ने विधानसभा का घेराव भी किया, आधे घंटे तक गेट के सामने बैठे रहे। अंदर जा सकते थे, लेकिन नहीं गए।

नक्सलवाद के सवाल पर उन्होंने कहा कि इस बात के लिए कोशिश करेंगे कि बस्तर में आराम से घम सके। केंद्रीय मंत्री अमित शाह के संकल्प के आधार पर विष्णुदेव साय की सरकार इस मामले में विभिन्न आयामों पर काम कर रही है।

महादेव सट्टा एप मामले में जांच बंद होने के सवाल पर गृहमंत्री ने कहा कि मामले में आरोपितों के दुबई से प्रत्यार्पण के लिए प्रयास हो रहे हैं। भाजपा सरकार आने के बाद लगातार बढ़ रही अपराधिक घटनाओं से कानून व्यवस्था पर उठते सवाल पर कहा कि पहले से स्थिति ठीक है।

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button